लुटेरी दुल्हन कांड : खाकी के दामन फिर हुए दागदार! संरक्षण दे रहे आरक्षी के बाद जनसेवा केंद्र संचालक और झांसा देने वाला गिरफ्तार…

Estimated read time 1 min read
Spread the love

ओ पी श्रीवास्तव
चंदौली/संसद वाणी : कहते हैं कि अपराध को बढ़ावा और संरक्षण सबसे ज्यादा खाकी के पनाहों में मिलता है। कुछ इसी तथ्य को सही साबित करती इन दिनों चंदौली की खाकी टीम दिखी है। पूरा मामला लुटेरी दुल्हन कांड से जुड़ा है, जिसने शादी के सपने सजाए उन नौजवानों के मंसूबों पर पानी फेरा है, जिनकी शादी में किसी अड़चन से लेट – लतीफी होती है। अब दूध का जला झाज भी फूंककर पिएगा,क्योंकि दुल्हन कब लुटेरी निकले पता नहीं। चंदौली के इस लुटेरी दुल्हन कांड के खुलासे के बाद जो तथ्य सामने आए हैं, वे कम चौंकाने वाले नहीं रहें हैं। उक्त कांड पूरे एक संगठित गिरोह द्वारा संचालित किया जाना मिला। जिसकी जद में लूट – खसोट को बढ़ावा देने में खाकी के सिपाही की भूमिका भी सामने आई। फिलहाल वधु पक्ष के फोटो, बायोडाटा समेत अन्य कार्यों में मदद की भूमिका का निर्वहन करते हुए जनसेवा केंद्र का संचालक भी गिरफ्त में आ गया है।

पुलिस की रणनीति से ज्यादा कारगर निकली पीड़ित संजय की एक्टिविटी..

लुटेरी दुल्हन कांड के सुर्खियों में आने और भुक्तभोगी संजय सिंह निवासी मई तहसील नदवई जिला भरतपुर थाना लखनपुर, राजस्थान द्वारा सदर थाना में प्रार्थना पत्र और मामला दर्ज कराने के बाद एसपी डा अनिल कुमार के निर्देशन में सक्रिय हुई पुलिस टीम ने चंद दिनों में ही मामला का खुलासा कर दिया। हालांकि पुलिस से ज्यादा कारगर प्रयास खुद भुक्तभोगी संजय द्वारा उक्त प्रकरण के खुलासे में सटीक निकली। घटना वाले दिन से ही पीड़ित संजय उक्त गिरोह पर नजर जमाए उनकी एक – एक एक्टिविटी पर नजर रख रहा था। इसी का नतीजा रहा कि चंदौली मझवार रेलवे स्टेशन के समीप भागने की फिराक में लगे लुटेरी दुल्हन के साथ गिरोह के तीन अन्य सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया, पुलिस को इसकी सूचना खुद भुक्तभोगी ने ही दी थी।

घटना की तह तक जाना एसपी चंदौली की आदत ने लाई रंग…

विदित हो कि अधिकांश घटनाओं में मामले के खुलासे के बाद जांच प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है, लेकिन घटना की परतें दर परतें उधेड़ने के लिए मशहूर एसपी डा अनिल कुमार ने खाकी रंग की बू को पहचान लिया था। इसी का नतीजा रहा कि जांच टीम द्वारा घटना के तार को उधेड़ने को लगातार कोशिश जारी रही। इसी क्रम में घटना के तार का मुख्य जुड़ाव शहाबगंज थाना से जुड़े होने के पुख्ता सबूत मिले, तो घटना की परतें उधेड़ने में लगी पुलिस टीम ने लुटेरी दुल्हन और गिरोह को संरक्षण देने वाले खाकी टीम के सिपाही को धर दबोचा, जो भागने की फिराक में लगा था। गिरफ्तार आरक्षी अनुज कुमार सिंह द्वारा शादी करवाने में सम्मिलित सह मुख्य अभियुक्त सोनू सिंह के गुगल पे से आठ हजार रूपया लेने और मोबाइल फोन पर लगातार वार्ता किया जाना पाया गया। आरक्षी अनुज कुमार सिंह को तत्काल गिरफ्तार कर, निलंबित करने के साथ ही आगे विभागीय कार्रवाई जारी है। हालांकि पुलिस के तमाम प्रयासों के बावजूद भी चंदौली खाकी टीम इस बड़े लूट कांड में मुख्य दोषी के रूप में सामने आकर छवि को दागदार करने में अव्वल भूमिका का निर्वहन की है।अब सबसे बड़ा सवाल है कि आखिरकार एसपी चंदौली के तमाम प्रयासों के बावजूद भी खाकी चंदौली की दागदार छवि कब तक सुधरेगी, यह भविष्य के गर्त में छुपा बड़ा सवालिया प्रश्न है ।

जांच में अब दो अन्य सदस्य चढ़े पुलिस के हत्थे…

वहीं आपको बता दें कि जैसे – जैसे जांच प्रक्रिया आगे बढ़ रही है लुटेरी दुल्हन कांड की कलई खुलकर सामने आ रही हैं, और गैंग के सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़ रहें हैं। बता दें कि लुटेरी दुल्हन का बायोडाटा और फोटो तैयार करने वाले सक्रिय सदस्य पुष्कर रस्तोगी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके द्वारा सकलडीहा तहसील गेट पर सहज जन सेवा केंद्र चलाया जा रहा था। वहीं फोन पर बातचीत कर दूसरे राज्य के युवकों को झांसे में लेने का आरोपी बलुआ थाना क्षेत्र के मटियरा गांव निवासी जितेंद्र को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।बता दें कि लुटेरी दुल्हन कांड के संगठित गिरोह के कुल सात सदस्यों को पुलिस ने अभी तक गिरफ्तार किया है। जिसमें इनके अपराधों को संरक्षण देने वाला शहाबगंज थाना पर तैनात आरक्षी अनुज कुमार सिंह भी शामिल है। पुलिसकर्मियों की मिलीभगत के कारण ही इस गिरोह के सदस्य बेपरवाह होकर खौफनाक वारदात को धडल्ले से अंजाम दे रहे थे। बता दें कि शादी के बाद प्लान के हिसाब से विवाद उत्पन्न कर पुलिस केस के नाम पर इस गिरोह के सदस्यों को संरक्षण देकर पीड़ितों से धन वसूली में पुलिस विभाग के कुछ सदस्य करते थे। हालांकि आगे की कार्रवाइयों में अभी और भी चौंकाने वाले नाम उजागर होने की आशंका है। फिलहाल पुलिस ने एसपी के निर्देशन में लुटेरी दुल्हन कांड केस पर मजबूती से पकड़ बना रखी है।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours