न्याय के लिए तरस रही अंकिता भंडारी की मां, प्राण त्यागने की दी चेतावनी

Estimated read time 1 min read
Spread the love

Ankita Bhandari Murder Case: उत्तराखंड का बहुचर्चित अंकिता भंडारी (Ankita Bhandari) हत्याकांड रविवार को उस समय फिर सुर्खियों में आ गया जब उसकी मां सोनी देवी ने आरोप लगाया कि प्रदेश की पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) सरकार ने अब तक सामने आए भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बड़े नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है.

एक वीडियो के जरिए अपनी पुत्री अंकिता के लिए न्याय की गुहार लगाते हुए देवी ने कहा कि मामले में यमकेश्वर की बीजेपी विधायक रेनू बिष्ट और यमकेश्वर के तत्कालीन उपजिलाधिकारी का नाम सामने आया है लेकिन उनके खिलाफ राज्य सरकार ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

कांग्रेस ने सरकार पर उठाए सवाल 

अंकिता की मां का वीडियो साझा करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने कहा, ‘धामी जी (मुख्यमंत्री) हमारी बेटी अंकिता भंडारी की मां के आंसुओं का जवाब कब दोगे ?’ सोनी देवी ने कहा कि उन्होंने यह भी सुना है कि मामले में जिस ‘वीआईपी’ की बात सामने आ रही थी, उसका नाम अजय कुमार है और उसके खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

देवी ने कहा कि इसकी बजाय मामले में उनकी मदद कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता आशुतोष नेगी के खिलाफ राज्य सरकार ने झूठा मुकदमा दर्ज कर दिया है और उनकी पत्नी का तबादला पिथौरागढ़ कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही नेगी के विरूद्ध मुकदमा वापस नहीं किया गया और उनकी पत्नी का तबादला रद्द न किया गया तो वह अपने प्राण त्याग देंगी.

ये है पूरा मामला 

गौरतलब है कि यमकेश्वर के गंगा भोगपुर क्षेत्र में वनंत्रा रिजॉर्ट में काम करने वाली 19 वर्षीया रिसेप्शनिस्ट अंकिता की सितंबर 2022 में कथित तौर पर रिजॉर्ट संचालक पुलकित आर्य ने अपने दो कर्मचारियों सौरभ भास्कर और अंकित गुप्ता के साथ मिलकर ऋषिकेश के निकट चीला नहर में धक्का देकर हत्या कर दी थी. आरोप लगा था कि किसी वीआइपी को ‘एक्स्ट्रा सर्विस’ देने से मना करने पर अंकिता की हत्या की गयी. घटना के बाद उपजे आक्रोश के बीच रिजॉर्ट की चाहरदीवारी तथा कमरों की दीवारें तोड़ दी गयी थीं.

कांग्रेस ने की कार्रवाई की मांग

माहरा ने कहा कि अंकिता की मां के आरोपों के मद्देनजर पूरे प्रकरण की हाईकोर्ट के सेवारत न्यायाधीश की देखरेख में जांच कराई जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि अंकिता के पिता वीरेंद्र भंडारी ने भी पौड़ी के जिलाधिकारी को एक पत्र लिखकर इसी प्रकार के आरोप लगाए हैं. माहरा ने कहा कि वीडियो और पत्र में बीजेपी एवं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक बड़े व्यक्ति अजय कुमार के नाम का खुलासा हुआ है. अगर इन आरोपों में जरा भी सच्चाई है तो निश्चित तौर पर इस पर कार्रवाई होनी चाहिए.उन्होंने कहा  कि हमें किसी भी एजेंसी पर भरोसा नहीं है. इसलिए मैं पूरे प्रकरण की हाईकोर्ट के सेवारत न्यायाधीश की देखरेख में जांच की मांग करता हूं. 

हाल में हत्याकांड के मुकदमे में जेसीबी चालक दीपक ने कोर्ट में दी अपनी गवाही में कहा था कि उसने विधायक बिष्ट और उपजिलाधिकारी के कहने पर रिजॉर्ट की चाहरदीवारी और दो कमरों की दीवारें और खिड़कियां तोड़ी थीं. दीपक की गवाही का जिक्र करते हुए माहरा ने कहा कि अपराध करने वाला और अपराध के सबूतों को मिटाने वाला बराबर का दोषी होता है और इसलिए मामले में विधायक और तत्कालीन उपजिलाधिकारी के खिलाफ भी आपराधिक मामले दर्ज किए जाने चाहिए.

अंकिता को इंसाफ दिलाने, कांग्रेस निकालेगी यात्रा 

माहरा ने कहा कि राहुल गांधी की 14 जनवरी को शुरू हो रही भारत जोड़ो यात्रा वाले दिन से प्रदेश कांग्रेस पूरे उत्तराखंड में हर ब्लॉक मुख्यालय, हर जिला मुख्यालय और विधानसभा क्षेत्र के स्तर पर अंकिता भंडारी न्याय यात्रा निकालेगी और बीजेपी के कारनामों से जनता को अवगत करायेगी. उन्होंने बताया कि यह यात्रा तीन दिन तक निकाली जाएगी.

बीजेपी ने कांग्रेस पर किया पलटवार

उधर, बीजेपी के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कांग्रेस द्वारा उसके नेताओं पर अनर्गल आरोपों को चुनाव में लगातार मिल रही हार की खीज बताया और कहा कि वह निम्न स्तर की राजनीति कर रही है.यहां जारी एक बयान में चौहान ने कहा कि कांग्रेस का दिवंगत अंकिता या उसके परिवार से कोई लेना देना नहीं है बल्कि वह इसके जरिए बीजेपी नेताओं को निशाने पर लेकर चरित्र हनन की राजनीति पर उतारू हो गयी है.

उन्होंने कहा कि अंकिता के परिजनों द्वारा आवेश में लगाए गए आरोपों को ढ़ाल बनाकर कांग्रेस बीजेपी के नेताओं को चारित्रिक रूप से बदनाम करने की कोशिश कर रही है. बीजेपी नेता ने कांग्रेस को चेतावनी दी कि बिना सबूत उसके नेताओं के खिलाफ अनर्गल आरोप लगाने पर पार्टी कानूनी कार्रवाई का रास्ता भी तलाशेगी.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours