चंदौली : एसडीएम ने सूर्या हॉस्पिटल का किया औचक निरीक्षण, मिली खामियां, सबसे बड़ा सवाल क्या मासूमों को मिल पाएगा न्याय

Estimated read time 0 min read
Spread the love

चंदौली/संसदवाणी

दागदार हुआ सूर्या हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर इन दिनों चंदौली जनपद की सुर्खियों में शुमार है। परिजनों के आरोप के तहत उक्त निजी हॉस्पिटल के चिकित्सक की लापरवाही से जेवरियाबाद निवासी वाशिष नागवंशी की पत्नी विभा सिंह की मौत हो चुकी है। परिजन न्याय की आस लगाए अधिकारियों के समक्ष न्याय की गुहार लगाते फिर रहें हैं लेकिन तमाम खामियों के उजागर होने के बाद भी एसी रूम में आराम फरमा रहे सीएमओ साहब के कानों में जूं तक नहीं रेंगा और ना मृत महिला के मासूम तीनों बच्चों की करुण पुकार सुनाई पड़ी। आखिरकार सवालों के घेरे में घिरे सीएमओ साहब की पांच सदस्यीय टीम कब अपनी जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौंपेगी यह भविष्य की गर्त में छुपा एक अनसुलझा प्रश्न बनकर रह गया है। हालांकि खबर का असर ही रहा की डीएम निखिल टीकाराम फुंडे के निर्देश पर गुरुवार को सदर एसडीएम के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सूर्या हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर का औचक निरीक्षण किया। एसडीएम के औचक निरीक्षण में बड़ी खामियां सूर्या हॉस्पिटल में उजागर हुई हैं, एसडीएम ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को आड़े हाथों लेते हुए रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौंपने के साथ ही सख्त कार्रवाई अमल में लाए जाने की बात बताई है।

एसडीएम के औचक निरीक्षण पर एक नजर…

सदर एसडीएम दिग्विजय प्रताप सिंह का काफिला गुरुवार की दोपहर बाद दागदार हुए सूर्या हॉस्पिटल की स्थलीय पड़ताल को पहुंचा तो उक्त निजी हॉस्पिटल के कर्मियो में हड़कंप मच गया। इमरजेंसी वार्ड में मरीजों की भरमार थी लेकिन चिकित्सक नदारद मिले। साथ ही एक्सरे टेक्नीशियन, एनिस्थिया के विशेषज्ञ भी नदारद मिले। जबकि उक्त हॉस्पिटल दीवाल पर चौबीसों घंटे उपलब्ध सेवाओं और डाक्टर की सूची मोटे मोटे अक्षरों से अंकित है। यह तथ्य भी उजागर हुआ कि किसी डाक्टर की उपलब्धता सुनिश्चित नहीं होने के बावजूद भी नौसिखिए पैरामेडिकल स्टाफ इलाज करते मिले। वहीं सुरक्षा उपकरणों की जांच में एसडीएम को एक्सपायर्ड फायर उपकरण मिले। इस पर नाराज एसडीएम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को आड़े हाथों लिया और कहा कि इतनी अनियमितता होने के बावजूद हॉस्पिटल का संचालन कैसे हो रहा है।

इस दौरान उन्होंने बताया कि सूर्या हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर के स्थलीय निरीक्षण में काफी खामियां मिली हैं। रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी, उच्चाधिकारियों की अनुसंशा पर सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। मीडिया कर्मियों के सवाल पर उन्होंने बताया कि ट्रामा सेंटर के मानकों की पूर्ति हॉस्पिटल कितना करता है, इसकी भी जांच की गई है। सबसे अहम बात है कि बिना डाक्टर की उपस्थिति के हॉस्पिटल संचालित होते मिला है, खामियां भी उजागर हुई है, कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours