लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराएं चिकित्सक : डीएम

Estimated read time 1 min read
Spread the love

सीएससी-पीएचसी अधीक्षकों को कड़े निर्देश अपने-अपने सीएससी पर साफ-सफाई पर दें विशेष ध्यान

ओ पी श्रीवास्तव
चंदौली/संसद वाणी:जिलाधिकारी निखिल टी. फुंडे की अध्यक्षता में देर शाम को जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई।जिलाधिकारी द्वारा बैठक में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत चलाए जा रहे कार्यक्रमों की गहन समीक्षा की गयी।

इन योजनाओं की जिलाधिकारी द्वारा की गई समीक्षा

बैठक में प्रस्तावित एजेंडा के आधार पर हेल्थ डेक्स बोर्ड, मातृ स्वास्थ्य, बाल स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, पीएमएमबीए, नियमित टीकाकरण, जननी सुरक्षा व मातृ वंदना योजना के तहत भुगतान की स्थिति आशा इंसेंटिव, हाईरिस्क प्रेगनेंसी, ओपीडी, आईपीडी की स्थिति प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों सहित अन्य योजनाओं की जिलाधिकारी द्वारा गहन समीक्षा की गई।

जिलाधिकारी ने संस्थागत प्रसव की समीक्षा के दौरान निर्देशित किया कि जिन आशा बहुओं के द्वारा कार्य में रुचि नहीं ली जा रही जिनके कारण जिले में संस्थागत प्रसव की प्रगति संतोषजनक नहीं है उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश मुख्य चिकित्साधिकारी को दिए।

जिलाधिकारी द्वारा सभी सीएससी-पीएचसी अधीक्षकों को कड़े निर्देश दिए कि अपने-अपने सीएससी पर साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। मरीज को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने में अहम भूमिका निभाएं। जिलाधिकारी ने कहा कि शासन की मंशानुरूप जन सामान्य को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाय। जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत लाभार्थियों तथा आशाओं को धनराशि का समयबद्ध भुगतान किया जाए। आशाओं को पूरी तरह से कार्य के लिए समय-समय पर प्रशिक्षण भी दिया जाए। क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के तहत चलाए गए अभियान में जिले में टीवी के रोगियों को बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए। जिलाधिकारी ने ई-कवच को पोर्टल पर अपडेट करने के निर्देश दिये। साथ ही प्रसव केंद्र पर प्रसव की संख्या बढ़ाए हेतु निर्देश दिये। दो साल तक के बच्चों की आधार इनरोलमेंट का कार्य शत-प्रतिशत सुनिश्चित किया जाए।

जिलाधिकारी ने आयुष्मान गोल्डन कार्ड की समीक्षा करते हुए कहा कि ऐसे लाभार्थी परिवारों की संख्या जिनकी अभी तक एक भी गोल्डेन कार्ड नहीं बनी है अभियान चलाकर उनको चिन्हित करते हुए गोल्डन कार्ड मुहैया कराया जाए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सकलडीहा में माह दिसंबर में सिजेरियन प्रसव की संख्या मात्र एक रहने एवं नौगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पांच रहने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि इस तरह की लापरवाही या शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। माह दिसंबर में मातृ मृत्यु दर की समीक्षा करते हुए कहा कि जनपद में स्वास्थ्य व्यवस्था बेहतर बनाए रखने हेतु मरीज को बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए।

निशुल्क मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए जनपद में चलेगा विशेष अभियान

जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए जनपद में वृहद स्तर पर प्रचार-प्रसार सुनिश्चित कराते हुए निशुल्क नेत्र शिविरों का आयोजन किया जाय। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि लेंस प्रत्यारोपण राजकीय, साधारण विधि, प्राइवेट सेक्टर, एनजीओ की टीम लगाकर मोतियाबिंद के रोगियों से भी बातचीत करते हुए उन्हें अपनी आंखों के प्रति हमेशा सजग रहने की अपील कर उनकी सफलतापूर्वक मोतियाबिंद ऑपरेशन सुनिश्चित किया जाए।

बैठक के दौरान एसएन श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक चकिया, जिला पंचायत राज अधिकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी सहित सीएससी/पीएससी प्रभारीगण उपस्थित रहे।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours