लाल बहादुर शास्त्री स्नातकोत्तर महाविद्यालय के पं पारसनाथ तिवारी के नवीन परिसर में राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तर प्रदेश के द्वारा कर्तव्य बोध दिवस का हुआ आयोजन

Estimated read time 0 min read
Spread the love

अशोक कुमार जायसवाल

चंदौली/डीडीयू नगर/संसद वाणी: लाल बहादुर शास्त्री स्नातकोत्तर महाविद्यालय दीनदयाल उपाध्याय नगर के पं पारसनाथ तिवारी नवीन परिसर में आज दिनांक 24 जनवरी को राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तर प्रदेश के द्वारा कर्तव्य बोध दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बोलते हुए महाविद्यालय के प्रबंधक राजेश कुमार तिवारी ने कहा कि व्यक्ति के जीवन में सफलताएं तभी प्राप्त होती हैं जब वह अपने कर्तव्य का सुचारु पूर्वक निर्वाह करता है। कर्तव्य परायण होने के बाद मनुष्य को शैक्षिक,सामाजिक ,धार्मिक ,राजनीतिक , आर्थिकआदि जीवन के सभी क्षेत्रों में सफलताएं और सम्मान की प्राप्ति होती है।गीता में भी कर्म की महत्ता को महत्वपूर्ण माना गया है। कर्तव्य का पालन करने वाला व्यक्ति समाज में वंदनीय व पूज्यनीय होता है और समाज में उसका सम्मान भी होता है।शिक्षकों का कर्तव्य अपने छात्रों के हृदय पर से अज्ञानता का आवरण हटाकर उन्हें आदर्शवादी बनाना होता है। प्रो संजय पाण्डेय ने कहा कि जो मनुष्य कर्तव्य के पथ से विचलित हो जाता है, उसका समाज में निरादर होता है। अपनी कर्तव्यपरायण के कारण महाराणा प्रताप अनेक कष्टों को सहन किया परंतु मुगलों के सामने नतमस्तक नहीं हुए।प्रो अजीत ने कहा कि कर्तव्य परायण व्यक्ति का हमेशा स्वस्थ व सरल होता है और निर्भीकतापूर्वक अपने कार्यों का संचालन करता है।प्राचार्य प्रो उदयन ने कहा कि कर्तव्यपालन व्यक्ति को महापुरुषों की तरह पूजा जाता है। मनुष्य का सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्य है मानवता धर्म का पालन करना और अपने दायित्व का ठीक से निर्वाह करना। इस अवसर पर प्रो अरुण पाण्डेय, डा भावना, डा कामेश, डा पंकज, डा शरद, डा साधना, सुनील, सुरेंद्र,विनीत, अतुल, रणजीत आदि उपस्थित रहे।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours