उड़ाका दल की तर्ज पर एसडीएम के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पैथोलॉजी सेंटर पर मारा छापा, भारी अनियमितता उजागर, कर दिया सील

Estimated read time 1 min read
Spread the love

टीम के अभियान पर भी उठे सवाल, आखिरकार एक ही सेंटर को बार – बार क्यों बनाया जा रहा है निशाना…

चंदौली/संसदवाणी

खबर जनपद चंदौली से है जहां एसडीएम सदर के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उड़ाका दल की तर्ज पर बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। बता दें कि अवैध पैथोलॉजी सेंटरों एवं निजी अस्पतालों के खिलाफ एक बार फिर महकमा सक्रिय दिखा। इस दौरान टीम ने मुख्यालय स्थित अभिषेक कॉम्प्लेक्स स्थित शिवांश पैथोलॉजी सेंटर को पूर्णतः सीलबंद करने की कार्रवाई को अंजाम दिया है।
एसडीएम के औचक निरीक्षण से पैथोलॉजी सेंटर संचालकों में हड़कंप सी स्तिथि देखी गई। मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर दिग्विजय प्रताप सिंह एवं स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सीएमओ व एसीएमओ ने करीब एक घंटे की कड़ी पड़ताल अमल में लाई। इस दौरान दस्तावेजों का अवलोकन, उपलब्ध सुविधाओं के संचालन को नियमन उपलब्ध डाक्टर व तकनीकी के बाबत भी पूछताछ की। टीम के पड़ताल में भारी कमियां उजागर हुई तो एसडीएम के निर्देश पर शिवांश पैथोलॉजी सेंटर को पूर्णतः सील बंद कर दिया गया।

एसडीएम सदर दिग्विजय प्रताप सिंह एवं स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सीएमओ व एसीएमओ ने करीब एक घंटे की कड़ी पड़ताल अमल में लाई।
शिवांश पैथोलॉजी सेंटर को पूर्णतः सीलबंद करने की कार्रवाई को अंजाम दिया है।

सदर एसडीएम दिग्विजय प्रताप सिंह की माने तो शिवांश पैथोलॉजी सेंटर की जांच में भारी कमियां उजागर हुई हैं। एक्सरे, पैथोलॉजी लैब, अल्ट्रासाउंड बिना रजिस्ट्रेशन के संचालित होते पाया गया है। साथ ही एक्सरे टेक्नीशियन और अल्ट्रासाउंड की जांच करने वाले चिकित्सक समेत रजिस्ट्रेशन नवीनीकरण की प्रक्रिया अमल में नहीं लाई गई थी, रजिस्ट्रेशन अवधि 2021 में समाप्त हो जाने के बाद भी उक्त पैथोलॉजी सेंटर निर्बाध रूप से संचालित था। जिस पर कड़ा एक्शन लेते हुए सीलबंद की कार्रवाई की गई है। बताया कि शिवांश पैथोलॉजी सेंटर के संचालक को कड़ी हिदायत दी गई है कि प्राप्त कमियों को दुरुस्त कराने के बाद ही पैथोलॉजी सेंटर का संचालन किया जाए।

एक ही पैथोलॉजी सेंटर पर लगातार दो बार छापेमार कार्रवाई से टीम के अभियान पर भी उठे सवाल….

बता दें कि जनपद चंदौली के मुख्यालय पर लगभग एक दर्जन से अधिक पैथोलॉजी सेंटर मानकों की उपेक्षा कर धडल्ले से संचालित हैं। इसका जीता जागता उदाहरण संसदवाणी न्यूज की टीम ने आकर्ष पैथोलॉजी सेंटर के रूप में पहले ही दी चुकी है। उसके बावजूद भी मात्र शिवांश पैथोलॉजी सेंटर को बार – बार निशाना बनाया जाना भी समझ से परे है। जबकि एक पक्ष पूर्व ही स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा शिवांश पैथोलॉजी सेंटर पर छापा मारकर पैथोलॉजी के कार्य को बंद कराया गया था और अल्ट्रासाउंड की जांच को हरी झंडी दी गई थी। अब सबसे बड़ा प्रश्न है कि आखिरकार किसकी शह पर इतनी बड़ी कार्रवाई को अंजाम में लाया गया है, जबकि अन्य मानकविहीन पैथोलॉजी सेंटर धडल्ले से संचालित हैं।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours