गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु … का दोहा बना अर्थहीन….

Estimated read time 1 min read
Spread the love

चंदौली में छात्र द्वारा अध्यापकों पर लगाए गए आरोप के बाद अध्यापकों ने रखा अपना पक्ष….

ओ पी श्रीवास्तव
चंदौली/संसद वाणी : जनपद चंदौली के मुख्यालय स्थित महेंद्र टेक्निकल इंटर कॉलेज का मामला इन दिनों सुर्खियों में है। विदित हो कि सोशल मीडिया पर तीन दिनों से एक छात्र का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो में छात्र ने उक्त कालेज के शिक्षकों पर बड़ा आरोप लगाते हुए कह रहा है की छह शिक्षकों ने मुझे कमरे में बंद कर जमकर पीटने के बाद बाहर फेंक दिया …!
हालांकि मामले में पीड़ित छात्र के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच – पड़ताल में जुटी है। विदित हो कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वायरल वीडियो को संज्ञान में लेते हुए सपा नेता मनोज सिंह काका ने एसपी से मिलकर दोषी शिक्षकों पर कार्रवाई की बात कही थी। मामले को सुर्खियों और राजनीतिकरण का रंग देख एसपी ने प्राथमिकता के आधार पर कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं।


बता दें कि सदर थाना क्षेत्र के फगुइयां गांव निवासी अलाउद्दीन अंसारी का पुत्र अबरार अंसारी कक्षा 11 वीं का छात्र है। आरोप है कि छात्रों के हूटिंग से अजीज शिक्षकों ने छात्र आई अबरार को कमरे में बंद कर तब तक पीटते रहे जबतक की वह बेहोश नही हो गया। उसके पश्चात छात्र को बाहर फेक दिया गया। जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे पीड़ित छात्र का भाई मौके पर पहुंचा और युवक को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। हालांकि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच – पड़ताल में जुटी है।

प्रधानाचार्य ने आरोप को बताया निराधार..

मामले के बाबत चंदौली डीआईओएस ने बताया की मामला संज्ञान में है। जांच कराकर उचित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं प्रेस वार्ता का आयोजन कर महेंद्र टेक्निकल इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रमोद सिंह ने मामले पर अपना पक्ष रखते हुए कहा की आरोप बेबुनियाद है। बच्चे यहां शिक्षा ग्रहण करने आते हैं ना की मार खाने। बताया कि उस दिन बारहवीं कक्षा का बाइबा चल रहा था। 11 कक्षा के छात्रों को बारह बजे बाद विद्यालय पहुंचना था। लेकिन अबरार अंसारी नामक छात्र 11.30 पर विद्यालय प्रांगण में कई छात्रों के साथ पहुंचा और अन्य युवकों से तू – तू – मैं – मैं की, उसके पश्चात क्या हुआ यह पता नहीं। पूरे कालेज प्रांगण में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। शिक्षक कमरे में बंद कर अगर छात्र को पीटते तो संज्ञान में होता। पुलिस ने भी इस तथ्य की पड़ताल की है। कहा की स्कूल में लड़के और लड़कियां दोनो पढ़ती हैं। इसलिए थोड़ी सख्ती जरूर रहती है, लेकिन मानसिक रूप से बीमार उक्त छात्र को अध्यापकों द्वारा पीटा नहीं गया है। जांच समिति का गठन कर उक्त मामले की पड़ताल भी की जा रही है। मामले को राजनीति का रंग देकर कालेज की छवि धूमिल की जा रही है।
पूरे मामले पर सदर कोतवाल गगनराज सिंह ने बताया की फिलहाल मामला दर्ज कर जांच और विवेचना जारी है, आगे दोषी पाए जाने पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। फिलहाल चिकित्सकों के अनुसार जिस प्रकार के आरोप लगाए जा रहें उस तरह के चोट के निशान नहीं मिले हैं। युवक मानसिक रोगी है, जिसकी पुष्टि हो चुकी है, उसका इलाज हो रहा है।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours