एमसीएच विंग हेरिटेज हॉस्पिटल की सुविधाएं हैं बेमिसाल, सुचारू रूप से संचालित हैं लिफ्ट

Estimated read time 1 min read
Spread the love

चंदौली : जनपद चंदौली के मुख्यालय स्थित पीपीपी मॉडल पर संचालित एमसीएच विंग में हेरिटेज हॉस्पिटल (Heritage Hospital) की सुविधाएं बेमिसाल हैं। विगत दिनों कुछ के पोर्टल मीडिया प्लेटफार्म द्वारा एमसीएच विंग की ख्याति धूमिल करने का बड़ा कुचक्र रचा गया और कोरी अफवाह खबरों का बिना स्थलीय निरीक्षण के ही प्रसारित कर वाहवाही लूटने का कार्य किया गया। जिन मुद्दों के माध्यम से गरीब जनता की सुविधा के लिए संचालित उक्त हॉस्पिटल की छवि धूमिल करने का प्रयास किया गया, उन मुद्दों के स्थलीय निरीक्षण में वास्तविकता कोसों दूर मिली।



पोर्टल मीडिया प्लेटफार्म ने झूठी खबरें प्रसारित कर सुर्खियां बटोरने का कार्य किया है। खबरों में यह दिखाया गया था कि कभी दवाओं तो कभी चिकित्सकों का अभाव मरीजों के इलाज में रोड़ा बन जाता है, जो की पूरी तरह अफवाह निकली। दवाओं की सर्वसुलभ व्यवस्था के साथ ही मरीजों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए चिकित्सकों की पूरी टीम शिफ्ट वाइज ड्यूटी पर मुस्तैद मिली। साथ ही मातृ शिशु विंग के दोनों लिफ्ट के खराब होने का मुद्दा भी उठाया गया, यहां तक कि मामले के बाबत डीएम तक संदेश पहुंचाते हुए कार्रवाई की मांग तक कर डाली गई।



लेकिन संसद वाणी (SANSAD VANI) न्यूज़ चैनल की स्थानीय पड़ताल में दोनों आरोप बेबुनियाद निकले। दवाओं और डाक्टरों की उपलब्धता के साथ ही मरीजों की भारी तादाद देखी गई। एक सत्य और बता दें कि उक्त एमसीएच विंग के बेहतर इलाज और उत्तम सुविधाओं की ही देन है की गर्भवती महिलाओं के इलाज में जनपद में एक स्थान है। माता और शिशु के बेहतर इलाज की आशा के साथ ही यहां मरीजों की संख्या अधिक है। पोर्टल मीडिया प्लेटफार्म पर इस मुद्दे को दिखाया गया था कि डेढ़ साल से गरीबों और गर्भवती महिलाओं की सुविधा के लिए तैयार एमसीएच विंग के दोनों लिफ्ट शो पीस बने हैं, लेकिन संसद वाणी न्यूज़ के स्थलीय पड़ताल में इस बात का भी खंडन होता है। कैमरे में कैद तस्वीरों में आप सहज देख सकते हैं कि दोनों लिफ्ट पूर्ण रूप से संचालित हैं।



सबसे अहम प्रश्न है कि चंदौली में कुछेक मीडिया पटल द्वारा बिना स्थलीय पड़ताल के ही खबरों को छाप दिया जाता है, जिनका वास्तविकता से कोई सरोकार नहीं मिलता। इस कारण मरीज भी गुमराह होते हैं और अधिकारी और कर्मचारी भी। इन खबरों का संसद वाणी न्यूज़ चैनल की टीम खंडन करते हुए वास्तविकता से लोगों को रूबरू कराने का एकमात्र प्रयास की है, ना कि इसे विरोध समझने की जरूरत है। लोगों को वास्तविक तथ्यों से रूबरू कराने का हमारा एकमात्र प्रयास है।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours