17.7 C
Munich
Saturday, July 13, 2024

अवकाश प्राप्त शिक्षको के साथ नवाचारी शिक्षक व एआरपी हुए सम्मानित

Must read

सेवानिवृत्त शिक्षक समाज का पथ प्रदर्शक– प्रभाकर सिंह

पिंडरा/संसद वाणी : उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के तत्वावधान में शनिवार को अवकाश प्राप्त शिक्षको समेत एक दर्जन शिक्षको का सम्मान कम्पोजिट विद्यालय हरिनाथपुर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान हुआ।
सम्मान समारोह के विशिष्ट अतिथि दिल्ली यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रोफेसर बजरंग प्रसाद सिंह ने कहाकि बेसिक स्कूलों से स्वयं पढ़ कर प्रोफेसर बना और आज भी बेसिक से पढ़े बच्चे भी हर क्षेत्र में आगे जा रहे हैं। इंटर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य प्रभाकर सिंह ने कहाकि शिक्षक भले विभाग से अवकाश ले ले लेकिन अपने कर्म और चरित्र से सदैव जीवित रहेगा और समाज का पथ प्रदर्शक बन जाता है। राज्यपाल पुरस्कार से सम्मानित व जिलामंत्री शैलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि आज जो स्थिति सरकार के द्वारा उत्पन्न की जा रही यदि हम सजग नही हुए तो बेसिक शिक्षा विभाग का भी निजीकरण सरकार करने से परहेज नही करेगा। अध्यक्षीय भाषण देते हुए प्राथिमक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष सकलदेव सिंह ने कहाकि शिक्षक केवल शिक्षण करने वाला ही नही होता बल्कि समाज को सुधारने वाला होता है। जो जीवनपर्यंत करता है।

स्वागत इप्र0अ0 संजय सिंह, संचालन एआरपी रंजन पाठक , धन्यवाद कमलेश कुमार ने ज्ञापित किया। इसके पूर्व इस वर्ष अवकाश प्राप्त शिक्षक अखिलेश सिंह, राकेश त्रिपाठी व अवधनारायण को अंगवस्त, स्मृति चिन्ह व बैंडबाजे के साथ भावभीनी विदाई दी गई। इस दौरान अच्छे शिक्षण कार्य करने वाले एक दर्जन शिक्षकों को भी सम्मानित किया गया।वही विदाई गीत की प्रस्तुति कर शिक्षक दिनेश यादव ने सबकी आंखे नम कर दी। इसके पूर्व सरस्वती चित्र पर माल्यापर्ण व दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।
इस दौरान ग्राम प्रधान मंगलदेव, बीडीसी पप्पू सिंह, रविन्द्र नाथ सिंह, पूर्व ग्राम प्रधान त्रिभुवन सिंह, सन्तोष सिंह, संजय गुप्ता, राकेश चंद पाठक, विनोद सिंह, राजेश्वर सिंह, मनोज सिंह, राजनारायण यादव, एआरपी राजाराम यादव, सचिन सिंह, विजय श्रीवास्तव समेत सैकड़ो गणमान्य लोगों के अलावा शिक्षकगण उपस्थित रहे।

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article