17.7 C
Munich
Saturday, July 13, 2024

तेल को बार-बार गर्म करने से हो सकता है कैंसर, ICMR ने जारी की वॉर्निंग

Must read

ICMR on repeated heating of vegetable oils: भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने वनस्पति तेलों के बारंबार इस्तेमाल और कैंसर होने की संभावना को लेकर अपनी वॉर्निंग जारी की है. इसके साथ ही ICMR ने वनस्पति तेलों को ‘दोबारा इस्तेमाल’ करने के सही तरीके के बारे में भी जानकारी दी है.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने हाल ही में जारी किए गए दिशानिर्देशों में खाना पकाने के लिए वनस्पति तेलों को ‘दोबारा इस्तेमाल’ करने की आदत के खतरों के बारे में बताया है. 

ICMR की रिपोर्ट के अनुसार, ‘बार-बार वनस्पति तेलों/वसा को गर्म करने से उनमें मौजूद PUFA (पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड) का ऑक्सीकरण होता है, जिससे हानिकारक/विषाक्त पदार्थ पैदा होते हैं और हृदय रोग और कैंसर का खतरा बढ़ सकता है.’

तो इस वजह से ICMR ने जारी की वॉर्निंग

यह दिशानिर्देश अलग-अलग एज ग्रुप के भारतीय ग्रुप को बेहतर खाने के ऑपशन्स की मदद के लिए बनाए गए हैं. इन दिशानिर्देशों का लक्ष्य भारतीयों को स्वस्थ रहने और सभी प्रकार के कुपोषण को रोकने के लिए जागरूक खाद्य विकल्प बनाने में मदद करना है.

ICMR की चेतावनी के अनुसार, घरों और होटलों में खाना बनाते समय वनस्पति तेल को ‘दोबारा इस्तेमाल’ करना एक आम आदत है, लेकिन यह आदत सेहत के लिए गंभीर खतरे पैदा कर सकती है. बार-बार गर्म करने से तेलों का स्वरूप बदल जाता है, जिससे हानिकारक पदार्थ निकलते हैं. उदाहरण के लिए, उच्च तापमान पर वनस्पति तेलों में कुछ वसा ट्रांस वसा में बदल जाते हैं. ट्रांस वसा हृदय रोग के लिए जाने जाते हैं और इनका खतरा तेल को बार-बार गर्म करने से और भी बढ़ जाता है.

अक्सर लोग बार-बार करते हैं वनस्पति तेल का इस्तेमाल

ICMR यह सलाह देता है कि इस्तेमाल किए हुए वनस्पति तेल को पूरी तरह से छानकर सब्जी बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन ऐसे तेल का सेवन एक या दो दिन के अंदर ही कर लेना चाहिए.

रिपोर्ट में इस बात पर भी जोर दिया गया है कि “घर में एक बार तलने के लिए इस्तेमाल किए गए वनस्पति तेल को छानकर सब्जी बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन उसी तेल को दोबारा तलने के लिए बिल्कुल भी नहीं लगाना चाहिए. साथ ही, ऐसे तेल को ज्यादा दिनों तक जमा करके रखने से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसे तेलों में खराब होने की दर अधिक होती है.”

ICMR के दिशानिर्देशों के अनुसार बार-बार गर्म किए गए तेल के खतरे

ट्रांस वसा में वृद्धि: ICMR की रिपोर्ट में बताया गया है कि घरों और होटलों में खाना बनाते समय वनस्पति तेल को ‘दोबारा इस्तेमाल’ करना एक आम आदत है, लेकिन यह आदत हानिकारक पदार्थों को निकाल सकती है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि “बार-बार गर्म करने से तेलों में मौजूद कुछ वसा ट्रांस वसा में बदल जाते हैं. ट्रांस वसा हानिकारक वसा होते हैं जो हृदय रोग, मधुमेह और मोटापे का खतरा बढ़ाते हैं.”

कैंसर का खतरा: विशेषज्ञों का कहना है कि बार-बार गर्म किए गए तेल में ट्रांस वसा और एक्रिलामाइड जैसे हानिकारक पदार्थ बन सकते हैं, जो कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं.

फ्री रेडिकल्स और सूजन: साथ ही, तेल को गर्म करने और दोबारा इस्तेमाल करने से फ्री रेडिकल्स और अन्य विषाक्त पदार्थ जमा हो सकते हैं, जो शरीर में सूजन पैदा कर सकते हैं. सूजन कई तरह की बीमारियों का मूल कारण है, जिसमें हृदय रोग, कैंसर और गठिया जैसी बीमारियां शामिल हैं.

ICMR के सुझाव और स्वस्थ खाना पकाने के लिए टिप्स

इन जोखिमों से बचने के लिए, ICMR एक ही तेल को कई बार इस्तेमाल करने से बचने की सलाह देता है. इसके बजाय, उच्च धूम्रपान बिंदु वाले तेलों, जैसे एवोकैडो या कुसुम के तेल का इस्तेमाल करना बेहतर होता है. उच्च धूम्रपान बिंदु वाले तेल ज्यादा गर्म होने पर भी नहीं टूटते हैं. खाना पकाने का सही तापमान बनाए रखना और एक बार इस्तेमाल के बाद तेल को फेंक देना भी आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर है.

खाना पकाते समय कम तेल का इस्तेमाल करने की कोशिश करें. ज्यादा तेल इस्तेमाल करने से न सिर्फ स्वाद खराब होता है, बल्कि यह सेहत के लिए भी हानिकारक है. आप खाना बनाते समय ऑयल स्प्रे का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर नॉन-स्टिक कुकवेयर का इस्तेमाल कर सकते हैं, जिससे कम तेल में ही खाना आसानी से बन सकता है.

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article