30.7 C
Munich
Monday, July 15, 2024

“बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ” के नारे का क्या अर्थ, आदिवासी लड़कियों से रेप मामले पर भड़के पूर्व सीएम कमलनाथ

Must read

Madhya Pradesh rape case: मध्य प्रदेश में हुई इस हैवानियत में मुख्य आरोपी ब्रजेश प्रजापति को पुलिस ने धर दबोचा है. उसके तीन सहयोगियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है. कैसे इन लड़कियों के साथ ज्यादती हुई, कौन इसका गुनहगार था, पढ़ें इस केस का कच्चा चिट्ठा.

मध्य प्रदेश का सीधी जिला. वैसे तो हाईटेक नहीं है लेकिन यहां अपराध हाईटेक है. एक दो नहीं, 7 आदिवासी छात्राओं के साथ रेप की एक ऐसी वारदात सामने आई है, जिसे सुनकर आप शर्मशार हो जाएंगे कि देश में ये भी हो रहा है. पढ़ाई के लिए रेप से किसी लड़की को गुजरना पड़ रहा है. आरोपी इतने हाईटेक थे कि मैजिकल वॉयस ऐप के इस्तेमाल से लड़कियों को सुनसान जगह बुलाते और उनके साथ रेप करते. आरोपी रंजना मैडम बनकर कॉल करते और आदिवासी लड़कियों का रेप करते.

अपने चेहरे को आरोपी इस तरह से छिपाते थे कि कोई उनका चेहरा तक न पहचान पाए. सिर में हेलमट, हाथों पर दस्ताने और चेहरे पर नकाब, ये आरोपी सधी हुई प्लानिंग के साथ सीधी में लड़कियों का रेप कर रहे थे. रेप के बाद ये लड़कियों से मोबाइल छीन लेते, उनके पैसे लूटते. ये कहानी, दिल दहलाने वाली है. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव के प्रशासन पर सवाल भी उठ रहे हैं. जिन लड़कियों के साथ रेप हुआ, उनमें से ज्यादातर पढ़ने वाली लड़कियां हैं. 

कैसे लड़कियों को फंसाते थे आरोपी?

आरोपी लड़कियों को फंसाने के लिए मैजिक वॉयस ऐप का इस्तेमाल करते थे. वे खुद को लेडी टीचर बताते और कहते कि स्कॉलरशिप देंगे. वे दस्तावेज वेरिफिकेशन के लिए लड़कियों को किसी सुनसान जगह बुलाते और उनका रेप कर डालते. सभी पीड़िताएं आदिवासी समाज की हैं. इस केस की छानबीन के लिए सरकार ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का गठन किया है. 

कैसे खुला ये शर्मनाक कांड?

एक पीड़िता ने पुलिस में तहरीर दी कि उसके साथ रेप हुआ है. पुलिस ने जब लोकेशन की छानबीन की तो मुख्य आरोपी पकड़ा गया. मुख्य आरोपी ने कुल 7 छात्राओं के साथ रेप किया है. उसने खुद कबूला है. पुलिस को लग रहा है कि वास्तविक आंकड़े ज्यादा हो सकते हैं.

एमपी सरकार पर भड़के पूर्व सीएम कमलनाथ

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि स्कॉलरशिप की लालच देकर आदिवासी छात्राओं के साथ रेप का मामला दिल दहलाने वाला है. और लड़कियां इसकी शिकार हो सकती हैं. सीधी में ही दलित लड़के के ऊपर पेशाब करने वाले केस को देश भूला नहीं है. आदिवासी समाज की लड़कियां कॉलेज में पढ़ाई तक नहीं कर सकतीं. देश में बेटी बचाओ का नारा गलत है.

कैसे पकड़ा गया आरोपी?

जिस लड़की ने रेप की शिकायत दी थी, उसने बताया था कि रेप करने वाले युवक के हाथ में जलने के निशाने हैं. पुलिस ने लोकेशन तलाशी, कई साक्ष्यों की मदद ली तो वह पकड़ा गया. यह सब एक दो दिन से नहीं, महीनों से हो रहा था और किसी को कानो-कान खबर तक नहीं थी. अब खुद मुख्यमंत्री की इस पर नजर है.

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article