एक मिनट में एक ही आदमी डाल रहा बीजेपी को 6 वोट? देखें वीडियो

वायरल वीडियो में शख्स एक मिनट में बीजेपी के उम्मीदवार को 5 वोट डालते दिख रहा है. हम इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है. ये सही है या गलत?

ईवीएम को लेकर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल सवाल खड़े करते रहते हैं. ईवीएम के साथ टेम्परिंग किया जा सकता है या नहीं इसपर पक्ष और विपक्ष बंटा हुआ है. ईवीएम मशीन का मामला कोर्ट में भी उठा चुका है. इस बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा जिसमें एक शख्स बीजेपी को एक मीनट में 5 वोट डालता दिख रहा है. इंडिया डेला लाइव इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है. ये वीडियो सही है या गलत? 

वायरल वीडियो में कथित तौर पर एक शख्स असम के करीमगंज विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी उम्मीदवार कृपानाथ मल्लाह के लिए 5 बार वोट डालता नजर आ रहा है. इसे  @AbhishekSay नाम के हैंडल से एक्स पर पोस्ट किया गया है. हालांकि ये वीडियो वोटिंग के दौरान की है या मतदान से पहले ईवीएम जांच की यह स्पष्ट नहीं है. चुनाव आयोग की तरफ से भी कोई बयान नहीं आया है. हम इस पर आयोग की तरफ से जो भी बयान आएगा उसे अपडेट करेंगे. 

अभिषेक नाम के यूजर ने वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है कि इससे देश की जनता में दहशत फैल रही है, जिम्मेदार अधिकारी को स्पष्टीकरण देना चाहिए और उस मतदान केंद्र के दूसरे पक्ष के मतदान एजेंटों से बयान लेकर आना चाहिए कि यह मतदान रिहर्सल था या कुछ और, ताकि लोगों का लोकतंत्र में विश्वास बहाल हो सके. यह आपका कर्तव्य है. व्यक्ति के पास निर्दलीय उम्मीदवार अब्दुल हमीद का पोलिंग एजेंट आईडी कार्ड है, लेकिन उम्मीदवार का कहना है कि वह उसे जानता तक नहीं है. यह वीडियो कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल है.

बता दें कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट वेरिफिकेशन की मांग को लेकर सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है. बैलेट पेपर की मांग को लेकर दर्ज याचिका भी खारिज कर दिया. फैसले में साफ कर दिया है कि मतदान ईवीएम मशीन से ही होगा. 

ओला ने गूगल मैप्स को दिया तगड़ा झटका, ऐप से हटा दिया फीचर

Ola Maps for Ola Cabs: ओला ने गूगल मैप्स को बड़ा झटका दिया है. अब कंपनी अपनी कैब ऐप में गूगल मैप्स की जगह ओला मैप्स का इस्तेमाल करेगी.

ओला कैब ऐप ने गूगल को तगड़ा झटका किया है. कंपनी ने ओला कैब ऐप को अपडेट करते हुए इस ऐप से गूगल मैप्स का फीचर हटा दिया है. कंपनी के सीईओ भाविश अग्रवाल ने यह जानकारी दी है. भाविश ने कहा कि कंपनी अब ओला कैब ऐप में गूगल मैप्स की जगह ओला मैप्स का इस्तेमाल करेगी. उन्होंने कहा कि ओला ने अपने ओला मैप्स नेविगेशन सिस्टम को अपडेट किया है और ऐप में Krurtim चैटबोट को भी जोड़ा गया है.

यात्रियों के लिए राइड होगी आसान

ओला कैब ऐप में अब तक गूगल मैप्स का इस्तेमाल हो रहा था लेकिन अब कंपनी अपनी कैब ऐप में ओला मैप्स का इस्तेमाल करेगी. सीईओ भाविश अग्रवाल ने कहा कि ओला मैप्स को अब ज्यादा फास्ट और सटीक जानकारी के साथ लाया गया है ताकि ओला राइड में और सुधार किया जा सके.

उन्होंने कहा कि हम अपने राइडर्स के लिए यात्रा को आसान बनाना चाहते हैं. ओला मैप्स से लोगों को कैब की लोकेशन की सटीक जानकारी मिलेगी और लोगों को कैब बुक करने में भी आसानी होगी.

भाविश अग्रवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘आने वाले कुछ ही हफ्तों में ओला कैब्स ऐप पर कई बदलाव देखने को  मिलेंगे. ऐप डिजाइन के लिए थोड़े प्यार की जरूरत है. अधिकांश लोग पहले से ही गूगल मैप्स को छोड़कर हमारी ओला मैप्स का इस्तेमाल कर रहे हैं. हमने इसमें बॉटम नेविगेशन बार आदि समेत कुछ शानदार बदलाव किये हैं. कुछ हफ्तों में इसमें और भी कई शानदार फीचर जोड़े जाएंगे.’

MapMyIndia  के साथ काम कर रही थी कंपनी

बता दें कि कंपनी अपने इलेक्ट्रिक स्कूटर व टैक्सी सेवाओं के लिए नेविगेशन फीचर शुरू करने के लिए  MapMyIndia  के साथ  काम कर रही थी. सैटेलाइट इमेज और 3डी वेक्टर मैपिंग क्षमताओं को बढ़ाने के लिए ओला ने 2021 में भू-स्थानिक विश्लेषिकी कंपनी GeoSpoc का अधिग्रहण किया था.

विदेश में पढ़ाई का है सपना, करें ये तैयारी वर्ना नहीं होगा एडमिशन 

Study in Abroad: बहुत से छात्रों का सपना होता है कि वह विदेश जाकर पढ़ाई करें. लेकिन सही जानकारी न होने की वजह से उन्हें एडमिशन नहीं मिल पाता है.

अगर आप विदेश में पढ़ने का सपना देख रहे हैं तो ये खबर आपके काम की हो सकती है. आज के समय में हर एक फील्ड में कंपटीशन बढ़ गया है. ऐसे में इस दौर में विदेश में जाकर पढ़ाई करना भी कठिन हो गया है. विदेश में जाकर पढ़ाई करने की इच्छा रखने वाले छात्रों को कई साल पहले ही तैयारी शुरू कर देनी होती है. आइए जानते हैं कि आखिर विदेश में जाकर पढ़ने के लिए क्या-क्या तैयारियां करनी होती है.

भारत से हर साल लाखों छात्र उच्च शिक्षा के लिए विदेश का रुख करते हैं. अमेरिका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी जैसे देशों में जाकर भारत के छात्र पढऩा पसंद करता है.

पैसा है जरूरी

अगर आप विदेश जाकर पढ़ने की सोच रहे हैं तो आपको अपना फाइनेंसियल बैकग्राउंड देखना होगा. क्योंकि अन्य देशों में शिक्षा बहुत ही महंगी है. दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज में बहुत फीस लगती है. हालांकि, बहुत सी यूनिवर्सिटी स्कॉलरशिप भी प्रोवाइड कराती हैं. उनके स्कॉलरशिप एग्जाम होते हैं. अगर आप उस एग्जाम को क्लियर कर लेते हैं तो आपको फ्री में एडमिशन मिल जाता है.

बहुत से देशों में पढ़ने जाने के लिए अलग-अलग तरह के टेस्ट भी होते हैं. जैसे की आपको इंग्लिश आनी जरूरी है. अगर आपको इंग्लिश नहीं आती है तो आपको इसके लिए जरूरी तैयारी कर लेनी चाहिए. इंग्लिश सीखने के लिए आप ऑनलाइन कोर्स खरीद सकते हैं.

IELTS, TOEFL जैसे टेस्ट पास करना जरूरी

बैचलर डिग्री और मास्टर डिग्री के लिए अलग-अलग डॉक्यूमेंट की जरूरत होती है. आपको IELTS, TOEFL जैसे एग्जाम देने होते हैं. ये एग्जाम आपकी इंग्लिश कम्यूनिकेशन को चेक करने के लिए जाते हैं.  

विदेश में पढ़ाई करने के लिए अगर किसी भी तरह की फाइनेंसियल दिक्कत आ रही है तो आप लोन भी ले सकते हैं. इंडिया में ऐसे कई बैंक है जो विदेश में पढ़ाई करने के लिए एजुकेशन लोन प्रोवाइड कराते हैं.

विदेश में जाकर पढ़ाई करने वाले छात्रों उस देश के लिए स्टूडेंट कार्ड जरूर बनवाए. ऐसे में आपको कई सारी सुविधाओं को लाभ मिल सकता है. स्टूडेंट कार्ड के नाम पर आपको कई जगह छूट मिल सकती है.

42 प्रतिशत का डिस्काउंट और 10 साल वारंटी, आज ही खरीदें ये डबल डोर फ्रिज

0

Double Door Refrigerator: चिलचिलाती गर्मी में सब्जियां और फूड्स खराब होने लगे हैं. अगर आप ऐसे में रेफ्रिजरेटर खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो आप गोदरेज के इस डबल डोर फ्रिज को खरीद सकते हैं. 

गर्मी के मौसम में खाना और कच्ची सब्जियां और फल जल्दी खराब होने लगते हैं.ऐसे में इस समस्या से आपको रेफ्रिजरेटर मुक्ति दिला सकता है. रेफ्रिजरेटर में सब्जियों और फलों को रखने से वे खराब नहीं होते हैं और इनको आप गर्मियों में आसानी से यूज कर सकते हैं. रेफ्रिजरेटर खरीदना चाहते हैं तो आप गोदरेज ब्रांड की डबल डोर फ्रिज को खरीद सकते हैं. 

अमेजन की डेली डेज सेल से आप Godrej 223 L 3 Star Convertible Double Door Refrigerator को खरीद सकते हैं. इसकी कीमत भी कम हैं और यह गर्मी फूड्स को खराब होने से भी बचाएगी. इस फ्रिज पर 42 प्रतिशत का डिस्काउंट दिया जा रहा है. अगर आपके पास पैसे नहीं हैं तो इसको ईएमआई पर भी घर लाया जा सकता है. 

इस खूबियों से है लैस

इस फ्रिज की क्षमता 223 लीटर है. इसमें फ्रेश फूड के लिए 173 लीटर का स्पेस दे रखा है. इसके साथ ही 50 लीटर का फ्रिजर आपको इस फ्रिज में देखने को मिलेगा. यह फ्रिज मल्टी इन्वर्टर टेक्नोलॉजी पर बेस्ड है. इसके साथ ही यह 2X इन्वर्टर टेक्निक के साथ ही बेहतर कूलिंग परफार्मेंस और हाई एनर्जी कैपेसिटी देता है. 

यह फ्रिज 6 इन 1 कंवर्टिवल फ्रीजर टेक्नोलॉजी के साथ मार्केट में उपलब्ध है. इसके फ्रीजर को आप 6 अलग-अलग मोड में यूज कर सकते हैं.

30 दिनों तक सब्जियां रखेगा ताजा

कंपनी ने दावा किया है कि यह रेफ्रिजरेटर 30 दिनों तक फल और सब्जियों को ताजा रखने की क्षमता रखता है. इसमें इसकी कूल बैलेंस और humidity कंट्रोल टेक्नोलॉजी इसकी मदद करती है. इसका कुल वजन 47.5 किलोग्राम है. इसमें आपको 10 साल की कंप्रेसर वारंटी भी मिलेगी. इसके अलावा 1 ईयर की मैन्युफैक्चरिंग वांरटी इस फ्रिज के साथ आती है. यह फ्रॉस्ट फ्री फ्रिज है. यह ऑटो डिफ्रॉस्ट फंक्शन के जरिए बर्फ को जमने से रोक सकता है. 

16000 रुपये तक की होगी बचत 

इस फ्रिज में आपको 42 प्रतिशत तक का डिस्काउंट मिल रहा है. ऑफर के बाद आप इसको 21990 रुपये में घर ला सकते हैं. इसमें आपके 16,210 रुपये बच जाएंगे. इस फ्रिज को आप 1066 रुपये प्रति महीने की नो कास्ट ईएमआई पर भी खरीद सकते हैं. अगर आप इसे एचडीएफसी क्रेडिट कार्ड से खरीदते हैं तो इसमें आपको 1250 रुपये का डिस्काउंट और मिल सकता है. 

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  हम  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करते है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के जन्मदिन पर रोहनिया विधायक ने हर्षोल्लास के साथ काटा केक,दी बधाई

सुशील चौरसिया

रोहनिया/संसद वाणी : अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की जन्मदिन पर रोहनिया विधानसभा क्षेत्र के मोहन सराय कनेरी स्थित अपना दल एस के जिला कार्यालय पर रविवार को दोपहर में रोहनिया विधायक डॉ सुनील पटेल,जिलाध्यक्ष डॉ नरेंद्र पटेल, राष्ट्रीय सचिव मनीष सिंह, प्रदेश सचिव डॉ महेंद्र सिंह पटेल, प्रदेश उपाध्यक्ष युवा मंच सोनू सिंह ने पार्टी के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियो के साथ केक काटकर एक दूसरे को खिलाते हुए केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की जन्मदिन की हार्दिक बधाई व शुभकामना दी और उनके दीर्घायु होने की कामना करते हुए बड़े ही हर्षोल्लास के साथ जन्मदिन मनाया।

इस अवसर पर मुख्य रूप से आनंद प्रकाश, रीना वर्मा, अनीता पटेल, गोविंद पटेल ,दिग्विजय यादव राजकुमार वर्मा, डॉ सुनीता पटेल, गोविंद पटेल ओम प्रकाश सिंह, बसंत लाल,मानस सिंह, राकेश यादव सहित पार्टी के कार्यकर्ता व पदाधिकारी गण उपस्थित रहे।

गर्मी में सेहतमंद रहने का असरदार तरीका, इन टिप्स को करें फॉलो

0

Diet Tips: गर्मियों में आपको शरीर में डिहाइड्रेशन की कमी, लू लगना जैसी समस्याएं होने लगती है. ऐसे में आपको अपने डाइट का पूरी तरह से ध्यान रखना चाहिए.

गर्मियां आ चुकी हैं ऐसे में हमें अपने सेहत का और भी ख्याल रखने की जरुरत है. बढ़ते पारा से हर कोई परेशान है. इस गर्मी में हमें अपने सेहत को सही रखने के लिए अपना खानपान और दिनचर्या काफी ठीक रखना पड़ता है. भयंकर डिग्री के कारण शरीर से अधिक पसीना निकलता है जो कि एलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बिगाड़ देता है. 

गर्मियों में आपको शरीर में डिहाइड्रेशन की कमी अक्सर देखने को मिलती है. इसलिए डाइट को बेहतर बनाना काफी जरूरी होता है. ऐसे में आज हम आपको कुछ चीजे बताएंगे जिसको आपको जरूर फॉलो करने की जरूरत है.

विटामिन-सी की जरूरत

गर्मियों में फ्लू से बचने के लिए आपको विटामिन सी का सेवन अधिक करना चाहिए. इसके लिए आपको अपनी डाइट में विटामिन सी से भरपूर चीजों को खाना चाहिए. संतरा, सूरजमुखी, नीबू जैसी चीजों को ज्यादा खाएं. 

गर्मी में प्रोटीन को अपनी डाइट में शामिल करना काफी जरूरी होता है. इसलिए आपको दाल, मूंग, चना और सत्तू का अधिक सेवन करना चाहिए. इसके अलावा आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

जितना हो सके उतना पानी का सेवन करें.

नारियल पानी, लस्सी, छाछ, गन्ने का जूस जैसी चीजों का इस्तेमाल ज्यादा करें.

गर्मियों में पैकेज्ड जूस या फिर कोल्ड ड्रिंक को पूरी तरह से छोड़ दें.

रोज 5-10 तुलसी के पत्ते का सेवन करें.

गर्मियों में दही का सेवन जरूर करें.

इसके अलावा आप सत्तू, या फिर पना जरूर पीएं. पना के लिए आपको मार्केट में कच्चे आम मिल जाएंगे जिसको उबालकर आप पानी में मिलाकर नमक और चीनी के साथ पीएं. इससे आपको कभी लू नहीं लगेगी. साथ ही आप स्वस्थ रहेंगे. 

जानें कौन हैं JDS सांसद प्रज्वल रेवन्ना? सेक्स टेप गर्मा दी कर्नाटक की राजनीति 

0

प्रज्वल रेवन्ना हासन से भाजपा-जद(एस) गठबंधन के उम्मीदवार हैं, जहां शुक्रवार को मतदान हुआ. अब उनपर यौन उत्पीड़न के आरोप लग रहे हैं.

लोकसभा चुनाव के बीच कर्नाटक में बड़ा सेक्स स्कैंडल सामने आया है. हासन के मौजूदा सांसद प्रज्वल रेवन्ना पर कथित सेक्स टेप में शामिल होने का आरोप लगाया गया है. कर्नाटक सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है. इस बीच, प्रज्वल ने देश छोड़ दिया है और वह जर्मनी के फ्रैंकफर्ट चले गए हैं. इस मामले ने कर्नाटक की राजनीति को गर्मा दिया है. इस बीच कांग्रेस जेडीएस पर हमलावर हो गई है. कांग्रेस की महिला यूनिट की सदस्यों ने सांसद प्रज्वल रेवन्ना के खिलाफ रविवार को विरोध प्रदर्शन किया और उनकी तत्काल गिरफ्तारी की मांग की. 

प्रज्वल रेवन्ना एचडी रेवन्ना के बेटे हैं, जो पूर्व प्रधान मंत्री और जद (एस) नेता एचडी देवेगौड़ा के बेटे हैं. प्रज्वल रेवन्ना कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के भतीजे भी हैं. पीटीआई के मुताबिक, पिछले कुछ दिनों से कर्नाटक के हासन में कथित तौर पर वीडियो क्लिप वारयल किए जा रहे थे. आरोप हैं वीडियों में सांसद प्रज्वल रेवन्ना हैं. प्रज्वल रेवन्ना हासन से भाजपा-जद(एस) गठबंधन के उम्मीदवार हैं, जहां शुक्रवार को मतदान हुआ.

एसआईटी जांच

रविवार को कुमारस्वामी ने कहा कि जिसने भी अपराध किया है उसे बख्शा नहीं जाएगा. हालांकि, उन्होंने कहा कि वह जांच पूरी होने तक इंतजार करना चाहेंगे. मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा है कि कथित घोटाले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया जाएगा. उनके कार्यालय ने एक बयान में दावा किया कि प्रज्वल रेवन्ना को एक महिला का यौन उत्पीड़न करते देखा गया था. राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने सिद्धारमैया से एसआईटी जांच करवाने का अनुरोध किया था. जांच का आदेश देते हुए मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर लिखा कि प्रज्वल रेवन्ना के अश्लील वीडियो मामले में सरकार ने एक एसआईटी बनाने का फैसला किया है. 

बीजेपी ने साधी चुप्पी

इस मालमे में जहां कांग्रेस हमलावर है, वहीं बीजेपी ने चुप्पी साध रखी है. कोई नेता इस पर बोल नहीं रहे. राज्य में बीजेपी का जेडीएस से गठबंधन है. राज्य पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एस प्रकाश ने कहा कि एक पार्टी के रूप में हमें वीडियो से कोई लेना-देना नहीं है. बीजेपी के सूत्रों के अनुसार, पार्टी ने कथित सेक्स टेप मामले पर आधिकारिक तौर पर प्रतिक्रिया नहीं देने का फैसला किया है क्योंकि राज्य में उसके कई वरिष्ठ नेता इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं.

कैंसर का पता चलने पर मन में पहला ख्याल आया था कि मै…..सोनाली बेंद्रे ने बताया सबकुछ 

0

2018 में सोनाली बेंद्रे को मेटास्टिक कैंसर होने का पता चला था, उनका कैंसर स्टेज चार पर था. सोनाली ने बताया कि सबसे पहले मेरे दिमाग में यही ख्याल आया कि मैं ही क्यों? हालांकि इसके बाद मेरे विचार पूरी तरह बदल गए.

लंबे समय से फिल्मी दुनिया से दूर रहीं सोनाली बेंद्रे एक बार फिर से लोगों को अपनी एक्टिंग का जौहर दिखाने के लिए तैयार हैं. सोनाली न्यूजरूम-ड्रामा सीरीज  The Broken News ने  सिनेमाई पर्दे पर वापसी करने जा रही हैं. इस सीरीज का सीक्वल मई 2024 में ZEE5  पर स्ट्रीम होने जा रहा है. इसी बीच एक्ट्रेस ने कैंसर के साथ अपनी जंग की यात्रा की कहानी साझा की है. ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे (Humans of Bombay) के साथ बातचीत में सोनाली ने बताया कि उन्होंने कैंसर से कैसे जंग जीती.

कैंसर होने पर मन में पहला ख्याल क्या आया था

जब सोनाली से पूछा गया कि आपने कैंसर से कैसे लड़ाई लड़ी, कैंसर का पता चलने पर आपके मन में सबसे पहले क्या ख्याल आया था? इस पर सोनाली ने कहा, ‘मेरे मन में सबसे पहले यही आया कि मैं ही क्यों? मैं यह सोचकर जाग जाती थी कि यह एक बुरे सपने जैसा था. मैं यकीन नहीं कर सकती थी कि ऐसा मेरे साथ हो सकता है. इसके बाद मैंने अपने विचारों को बदलना शुरू कर दिया. यह सोचने के बजाय कि मैं ही क्यों…मैं खुद से सवाल करने लगी की मैं क्यों नहीं? मैं ईश्वर का धन्यवाद देने लगी कि यह सब कुछ मेरी बहन और बेटे के साथ नहीं हुआ. मुझे ऐहसास हुआ कि मेरे पास इससे लड़ने की ताकत है. मेरे पास अच्छे अस्पताल जाने के स्रोत थे और मेरे पास ऐसा सपोर्ट सिस्टम है जो मुझे इससे छुटकारा दिलाने में मदद करेगा. जब मैंने अपने आप से यह पूछना शुरू किया कि मैं क्यों नहीं? तो इसने मुझे ठीक होने में काफी मदद की.’

2018 में सोनाली को हुआ था मेटास्टिक कैंसर

बता दें कि साल 2018 में सोनाली बेंद्रे को मेटास्टिक कैंसर होने का पता चला था, उनका कैंसर स्टेज चार पर था. इसके बाद उनका न्यूयॉर्क सिटी हॉस्पिटल में इलाज चला और 2021 में वह पूरी तरह से ठीक हो गईं. आज सोनाली लोगों में कैंसर को लेकर जागरूकता फैला रही हैं और कैंसर से जूझ रहे लोगों की मदद करती हैं.

2021 में कैंसर सर्वाइवर्स डे पर उन्होंने एक इंस्टा पोस्ट में लिखा था, ‘समय कैसे उड़ जाता है…आज जब मैं पीछे मुड़कर देखती हूं तो मुझे ताकत दिखाई देती है. मुझे कमजोरी दिखाई देती है लेकिन सबसे जरूरी मैं C शब्द को यह परिभाषित नहीं करने देने की इच्छाशक्ति देखता हूं कि इसके बाद मेरा जीवन कैसा होगा….आप वह जीवन बनाते हैं जिसे आप चुनते हैं. यात्रा वही है जो आप बनाते हैं.’

निकाह की खुशियां बदल गईं मातम में, अचानक गिरी लड़की और हो गई मौत 

Viral News: मेरठ के एक घर में निकाह की खुशियां उस वक्त मातम में बदल गईं, जब अपनी बहन की हल्दी रस्म में डांस करते हुए एक युवती नीचे गिर गई. जब परिजन उसको अस्पताल लेकर पहुंचे तो डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. 

कहते हैं कि मौत कब आ जाए, इसका कोई पता नहीं होता है. ऐसा ही एक मामला मेरठ में देखने को मिला. जहां निकाह की खुशियां मातम में तब्दील हो गईं. यहां पर एक युवती की डांस करते वक्त मौत हो गई. वह अपनी बहन की हल्दी सेरेमनी में डांस कर रही थी. 

यह मामला मेरठ के अहमदनगर गली नंबर-2 का है. जानकारी के मुताबिक यहां पर रहने वाले आफताब की बेटी का निकाह रविवार होने वाला था. शादी से पहले शनिवार को हल्दी रस्म का कार्यक्रम चल रहा था. इस दौरान दुल्हन को घर की महिलाएं हल्दी लगाते हुए मंगल गीत गा रही थीं. इसी समय आफताब के भाई की बेटी (दुल्हन की चचेरी बहन) अपनी सहेलियों के साथ आई और डीजे पर डांस करने लगी. वे सभी केजीएफ फिल्म के गाने ‘मैंने तेरे लिए छोड़ा है जमाना, तेरा इरादा तो बता..’पर डांस कर रही थीं. डांस करते समय अचानक से रिमशा गिर गई. 

हो गई मौत 

रिमशा के नीचे गिरते ही लोग उसे उठाने पहुंचे. इसके साथ ही उसके चेहरे पर पानी के छींटे डाले गए, लेकिन इसके बाद भी रिमशा को होश नहीं आया. इसके बाद परिवार के लोग उसे लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया. इसके बाद आफताब के घर खुशियां मातम में बदल गईं. अभी निकाह को भी रोक दिया गया है. वहीं, यह पूरी घटना को वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. 

अगर आग से जलकर राख हो जाए फसल तो ऐसे मिलेगा मुआवजा? पढ़ें सबकुछ 

Fire Incident: गर्मी के मौसम में आग लगने की घटनाएं अधिक देखने को मिलती है. खेतों में आग लगने से किसानों की फसल जलकर राख हो जाती है. ऐसे में उनको लाखों का नुकसान हो जाता है. ऐसे हादसों में हुए नुकसान से राहत दिलाने के लिए मुख्यमंत्री खेत-खलिहान दुर्घटना सहायता योजना संचालित है, जिसके माध्यम से आप फसल नष्ट होने के एवज में मुआवजा प्राप्त कर सकते हैं. 

गर्मी के मौसम में बिजली के तारों में शॉर्ट सर्किट या किसी अन्य वजह से खेत में तैयार फसल जलकर राख हो जा रही हैं. ऐसी घटनाएं गर्मी के मौसम में ज्यादातर सामने आती हैं. ऐसे हादसों से किसानों को राहत दिलाने मुख्यमंत्री खेल-खलिहान दुर्घटना सहायता योजना संचालित है. इसके अंतर्गत फसल नष्ट होने के एवज में किसानों को मुआवजा देने का प्रावधान है. 

नियम के अनुसार आग अगर किसी सामान्य कारणों से लगती है तो उसकी शिकायत दर्ज की जाती है.वहीं, अगर आग बिजली के तार आदि से लगती है तो जली हुई फसल के एवज में मुआवजा विद्युत विभाग देता है. इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से रिपोर्ट भेजी जाती है और इसके बाद क्षति का आकलन करके किसानों को मुआवजा दे दिया जाता है. 

क्या है प्रोसेस? 

अगर आपके खेत में आग लगती है तो आप ग्राम प्रधान या फिर सचिव के माध्यम से ब्लॉक में शिकायत दर्ज करवा सकते हैं. इसके साथ आप इस बात की जानकारी भी ले सकते हैं कि क्या आपका फसल बीमा इस प्रकार की घटनाओं को कवर करता है या फिर नहीं?

ऐसे करें आवेदन 

फसल में आग लगने के बाद किसानों को जन सुविधा केंद्र के माध्यम से ई-डिस्टिक पोर्टल पर जाकर मंडी समिति के पोर्टल के जरिए अग्निकांड पोर्टल पर आवेदन कर सकते हैं. इसके बाद मुख्यमंत्री अग्निकांड खेत खलियान योजना के अंतर्गत उनका वेरीफिकेशन किया जाएगा. इसकी तहसील के जरिए जांच कराई जाएगी और 10 दिन के भीतर मंडी समिति द्वारा किसान के खाते में पैसे भेज दिए जाएंगे. ढ़ाई एकड़ फसल में आग लगने पर 30 हजार और 5 एकड़ फसल में आग लगने पर 40 हजार व उससे ऊपर 50 हजार रुपये मुआवजे मे दिए जाते हैं.